यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ की कबीना में एक मुस्लिम समेत 44 मंत्रियों ने ली शपथ

लखनऊ.योगी आदित्यनाथ उत्तर प्रदेश के नए मुख्यमंत्री बन चुके हैं. केशव प्रसाद मौर्य और दिनेश शर्मा के रूप में उन्हें दो उप मुख्यमंत्री मिले हैं.योगी आदित्यनाथ ने रविवार को यूपी के सीएम पद की शपथ ली। 22 कैबिनेट समेत कुल 44 मंत्री बनाए गए हैं। 5 महिलाएं भी शामिल हैं। शपथ ग्रहण समारोह में नरेंद्र मोदी और अमित शाह के साथ 9 राज्यों के सीएम भी शामिल हुए। मुलायम और अखिलेश भी आए लेकिन बीएसपी और कांग्रेस का कोई बड़ा नेता समारोह में नहीं आया। 1 मुस्लिम, 1 सिख और 1 यादव समुदाय के विधायक को मंत्री बनाया गया है। शपथ के बाद नरेंद्र मोदी ने ट्वीट कर कहा- मुझे भरोसा है कि योगी आदित्यनाथ की टीम यूपी को उत्तम प्रदेश बनाने में कोई कसर नहीं छोड़ेगी।

सीएम पद की शपथ लेने के बाद योगी आद‍ित्यनाथ ने रविवार को लोकभवन में सीएम के तौर पर चार्ज संभाला। इसके बाद मीडिया से बातचीत में कहा कि उनकी सरकार बिना किसी भेदभाव के काम करेगी। संकल्प पत्र में जो वादे किए गए हैं, उन्हें हर हाल में पूरा करेंगे।

प्रेस कॉन्फ्रेंस में योगी ने कहा, “यूपी के लिए आज का दिन ऐतिहासिक है। यूपी चुनाव में बीजेपी को अभूतपूर्व सफलता मिली। विकास और सुशासन ने के लिए बीजेपी को भारी समर्थन देने के लिए हम आभार व्यक्त करते हैं।”
– “इस मौके पर हम प्रदेश की जनता को भरोसा दिलाना चाहते हैं कि सरकार यूपी को खुशहाली और विकास की ओर तेजी से आगे बढ़ाने के लिए जो भी कदम उठाने की जरूरत पड़ेगी, उसमें कोई कोर-कसर नहीं छोड़ेगी। इस लक्ष्य को पूरा करने के लिए सरकार बीजेपी के लोक कल्याण संकल्प पत्र 2017 में किए गए वादों को पूरा करने के लिए तैयार है।”
– “मोदी जी के नेतृत्व में केंद्र में बीजेपी ने सबका साथ, सबका विकास का संकल्प लिया है। उसी का अनुसरण करते हुए सरकार प्रदेश की जनता की सेवा करेगी। 15 साल में यूपी विकास की दौड़ में पिछड़ गया है। यहां सत्ता में रही सरकारों ने भ्रष्टाचार, परिवारवाद, कानून-व्यवस्था की स्थिति से जनता को नुकसान पहुंचाया है।”
– “हमारी सरकार जनता के हित में तुरंत कार्रवाई शुरू करेगी। सरकार बगैर किसी भेदभाव के समाज के सभी वर्गों के लिए समान रूप से काम करेगी। इसके लिए शासन-प्रशासन को संवेदनशील बनाया जाएगा।”
कानून व्यवस्था पर फोकस
– सीएम ने कहा, “यूपी की कानून व्यवस्था दुरुस्त रखने के िलए सरकार लगातार सजग रहेगी। सरकार शिक्षा, युवाओं के लिए रोजगार, जनता के लिए स्वास्थ्य और परिवहन की सुविधा मिले, गरीबों के लिए, ग्रामीणों के लिए, खेती करने वालों के लिए काम करेगी। कृषि, किसान और खेतीहर मजदूरों के लिए, महिलाओं के सशक्तिकरण, सुरक्षा और सम्मान के लिए सरकार को कसर बाकी नहीं रखेगी।”
– “पहले की सरकारों की बदहाल शासन प्रणाली की वजह से युवाओं को नुकसान हुआ। शिक्षा और स्किल डेवेलपमेंट पर ध्यान देंगे, सरकारी नौकरियों को भ्रष्टाचार मुक्त बनाएंगे। औद्योगिक निवेश पर जोर दिया जाएगा,जिससे युवाओं को राज्य में रोजगार मिलेगा। विश्वास दिलाना चाहता हूं कि यूपी में बदलाव लाने का जो जनादेश मिला है, उसके सकारात्मक परिणाम जल्द दिखने लगेंगे। हम लोगों ने सबका साथ, सबका विकास की बात कही थी, शपथ ग्रहण में आपको वो तस्वीर दिखाई दी होगी।”
– “बीजेपी ने चुनाव से पहले जनता के सामने लोक कल्याण संकल्प पत्र रखा था। हमने जो जनता से वादे किए हैं, उन्हें हर हाल में पूरा करेंगे। किसानों, खेतीहर मजदूरों की आय को दोगुना करने के लिए ठोस कदम उठाए जा रहे हैं।”
15 दिन में प्रॉपर्टी की डिटेल दें मिनिस्टर- योगी
योगी के प्रेस कॉन्फ्रेंस से जाने के बाद मिनिस्टर श्रीकांत शर्मा ने बताया, “करप्शन को जड़ से उखाड़ना पार्टी का मेन एजेंडा है। सीएम ने अपनी पहली कैबिनेट मीटिंग में मिनिस्टर्स को निर्देश दिए गए 15 दिन के भीतर अपनी प्रॉपर्टी की डिटेल दें। सीएम ने सरकार और पार्टी के बीच कोऑर्डिनेशन पर भी जोर दिया।”
– “सीएम ने नए MLAs को ट्रेनिंग देने को कहा और साथ ही उन रास्तों को खोजने को भी कहा, जिसके जरिए विधायक अपने वोटर्स से जुड़े रह सकें। मंत्रियों को विभागों के बंटवारे पर अभी कोई फैसला नहीं लिया गया है।”
 शपथ ग्रहण समारोह में शामिल हुए मोदी-मुलायम

– योगी के साथ केशव प्रसाद मौर्य और द‍िनेश शर्मा ने डिप्टी सीएम पद की शपथ ली। कांशीराम स्मृति उपवन में हुए समारोह में नरेंद्र मोदी, अमित शाह और लालकृष्ण अाडवाणी समेत कई बड़े नेता शामिल हुए। सेरेमनी में 9 राज्यों के सीएम भी मौजूद थे। मुलायम-अखिलेश यादव भी शपथ ग्रहण में पहुंचे। कैबिनेट-राज्य मंत्रियों समेत कुल 44 मंत्रियों ने शपथ ली।योगी आदित्यनाथ के शपथ ग्रहण के दौरान मोदी ने मुलायम और अखिलेश से हाथ मिलाया। पीएम ने अखिलेश की पीठ भी थपथपाई और इसके बाद मुलायम उनके कान में कुछ कहते नजर आए। यूपी की राजनीति के इतिहास में ये शायद पहली तस्वीर है, जब सीएम के शपथ ग्रहण के दौरान दो विपक्षी पार्टियों के नेता इस अंदाज में मिले। शपथ ग्रहण के बाद मोदी ने ट्वीट किया, “मुझे नई टीम पर पूरा भरोसा है कि यूपी को उत्तम प्रदेश बनाने में वो कोई कसर नहीं छोड़ेगी।”मोदी मंच पर बैठे एनडी तिवारी से भी मिलने गए। इसके बाद जब मोदी लौटे तो मुलायम ने एक बार फिर उनसे हाथ मिलाया और उनके कान में कुछ कहा।

 मुलायम का हाथ पकड़ कर करवाई योगी से मुलाकात
– कार्यक्रम के बाद अमित शाह ने मुलायम सिंह का हाथ पकड़ा और योगी आदित्यनाथ की ओर लेकर गए। योगी ने अखिलेश से हाथ मिलाया और मुलायम से भी मुलाकात की।

22 कैबिनेट,9 राज्य मंत्री (इंडिपेंडेंट चार्ज) और 13 राज्यमंत्री

योगी आदित्यनाथ के साथ 22 कैबिनेट मंत्रियों ने भी शपथ ली। इसके अलावा 9 राज्य मंत्री (इंडिपेंडेंट चार्ज) और 13 राज्य मंत्रियों ने भी शपथ ली।इनमें श्रीकांत शर्मा, सतीश महाना, राजेश अग्रवाल, लक्ष्मीनारायण चौधरी, सुरेश खन्ना, सत्यदेव पचौरी, जयप्रताप सिंह, ओमप्रकाश राजभर, स्वामी प्रसाद मौर्य, जयप्रकाश सिंह, सिद्धार्थनाथ सिंह, नंदगोपाल नंदी, दारा सिंह चौहान, एसपी सिंह बघेल, धरमपाल सिंह, रमापति शास्त्री, बृजेश पाठक, राजेंद्र सिंह, मुकुल बिहारी, आशुतोष टंडन और रीता बहुगुणा शामिल हैं।
– मंत्रिमंडल में 5 महिलाएं शामिल हैं। एक मुस्लिम मोहसिन रजा को भी शामिल किया है। इसके अलावा मंत्रिमंडल में एक सिख और एक यादव को जगह दी गई है। बता दें कि अखिलेश मंत्रिमंडल में 15 मुस्लिम शामिल थे।
 दूसरी पार्टियों से बीजेपी में आए 7 नेताओं को कैबिनेट में जगह
– स्वामी प्रसाद मौर्य- बीएसपी छोड़कर आए
– रीता बहुगुणा जोशी- कांग्रेस छोड़कर आए
– दारा सिंह चौहान- बीएसपी छोड़कर आए
– एसपी सिंह बघेल-सपा छोड़कर आए
– बृजेश पाठक- बीएसपी छोड़कर आए
– लक्ष्मी नारायण चौधरी- बीएसपी छोड़कर आए
– नंद गोपाल नंदी- कांग्रेस छोड़कर आए
9 राज्यों के सीएम हुए शामिल
1# मध्य प्रदेश- शिवराज सिंह चौहान
2# गोवा- मनोहर पर्रिकर
3# महाराष्ट्र- देवेंद्र फड़णवीस
4# आंध्र प्रदेश- चंद्रबाबू नायडू
5# अरुणाचल प्रदेश- पेमा खांडू
6# छत्तीसगढ़- डॉ. रमन सिंह
7# असम- सर्बानंद सोनोवाल
8# गुजरात- विजय रूपानी
9# उत्तराखंड- त्रिवेंद्र सिंह रावत
देश के दूसरे भगवाधारी सीएम
– योगी यूपी के पहले और उमा भारती के बाद देश के दूसरे भगवाधारी सीएम हैं। यूपी में पहली बार दो डिप्टी सीएम बनाए गए हैं। ये हैं केशव प्रसाद मौर्य और दिनेश शर्मा।
 ऐसे तय हुए दो डिप्टी सीएम
– शनिवार को बीजेपी विधायक दल की मीटिंग खत्म होने के बाद पार्टी के सेंट्रल ऑब्जर्वर वेंकैया नायडू ने कहा, “विधायक दल की मीटिंग में सुरेश खन्ना ने आदित्यनाथ के नाम का प्रस्ताव रखा। दूसरों से भी पूछा गया कि क्या कोई किसी और के नाम का प्रस्ताव रखना चाहता है।”
– योगी ने कहा कि यूपी बड़ा प्रदेश है, इसलिए मुझे दो सहयोगियों की जरूरत होगी। अमित शाह जी से बात करने के बाद पार्टी ने तय किया कि योगी जी को सहयोग देने के लिए केशव प्रसाद मौर्य और दिनेश शर्मा को डिप्टी सीएम बनाया जाएगा।
 जीत के जश्न के नाम पर डिस्टर्बेंस बर्दाश्त नहीं होगा- योगी
– राज्यपाल से मुलाकात के बाद योगी ने सभी जिलों के SSP से कहा कि जीत के जश्न के नाम पर डिस्टर्बेंस और उत्पात किसी भी हाल में बर्दाश्त नहीं किया जाना चाहिए।
 योगी आदित्यनाथ CM क्यों?
– पॉलिटिकल एक्सपर्ट श्रीधर अग्निहोत्री ने बातचीत में वो 10 कारण बताए, जिसकी वजह से योगी यूपी के सीएम बनाए गए।
1) कट्टर हिंदूवादी चेहरा हैं। बीजेपी के फायर ब्रांड नेता हैं।
2) मंदिर आंदोलन से जुड़े हुए नेता हैं। राम मंदिर का मुद्दा उठाते रहे हैं।
3) 2019 में लोकसभा चुनाव होने हैं। ऐसा माना जा रहा है कि जैसा पोलराइजेशन इस विधानसभा चुनाव में हुआ है, 2019 में भी हो सकता है।
4) इस चुनाव में वेस्ट यूपी से लेकर पूर्वांचल तक योगी आदित्यनाथ ने जमकर प्रचार किया। माना जा रहा है कि इससे बीजेपी को जीत में काफी फायदा हुआ।
5) बीजेपी को जो बहुमत मिला है, उसमें हिंदुत्व का एजेंडा ही कारगर रहा है।
6) आदित्यनाथ पर करप्शन का कोई आरोप नहीं है।
7) योगी की कोई लामबंदी नहीं है। उनके साथ गुटबंदी जैसी कोई चीज नहीं है।
8) पूर्वांचल में अच्छी पकड़ रखते हैं, जहां मोदी-राजनाथ-अमित शाह की सबसे ज्यादा दिलचस्पी रखते हैं।
9) गोरखपुर से 5 बार सांसद रहे हैं। विधायिका का अनुभव है।
10) आरएसएस के करीबी माने जाते हैं। इसलिए उनके नाम पर आसानी से मुहर लगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »