महागठबंधन के बिखरने से बिहार की 11 करोड़ जनता का भरोसा टूटा: शरद

पटना/नई दिल्ली. शरद यादव बिहार की जनता से सीधा संवाद करने के लिए 10,11 और 12 अगस्त तक यात्रा पर हैं। गुरुवार को पटना एयरपोर्ट पर पहुंचने के बाद शरद ने कहा कि महागठबंधन टूटने से बिहार की 11 करोड़ जनता का भरोसा टूटा है। उन्होंने कहा, “मैं आज भी गठबंधन के साथ खड़ा हूं और मैं जनता के बीच जाऊंगा ताकि उनसे हमारा गठबंधन बना रहे।” शरद नीतीश के गठबंधन से अलग होने के फैसले से नाराज हैं।सूत्रों का कहना है कि शरद यादव पर जेडीयू कार्रवाई कर सकती है और उन्हें पार्टी से निकाला जा सकता है।

शरद ने कहा, “आजादी के बाद 70 साल के इतिहास में ऐसा कोई उदाहरण नहीं मिलता, जिसमें दो पार्टी चुनाव में आमने-सामने लड़ी हों, उनके मैनिफेस्टो अलग हों और वे बीच में ही जाकर मिल जाएं। मैं जनता दल के कुछ पुराने साथियों से भी मिला हूं। 2015 के चुनाव में डेढ़ माह तक बिहार के घूम-घूमकर मैंने गठबंधन के नेताओं के लिए वोट मांगा था।”
– “महागठबंधन बनाने के लिए बड़ी कोशिशें हुई थीं। हमने तीन हेलिकॉप्टरों से विधानसभा चुनाव में बीजेपी के 26 हेलिकॉप्टरों का मुकाबला किया। ताजा राजनीतिक घटनाओं से जनता का भरोसा टूटा है। मैं बिहार के कई जिलों का दौरा करूंगा। देश की परिस्थिति विकट है। इसी सवाल को लेकर जनता के बीच जा रहा हूं। दिल्ली में हमने 17 अगस्त को साझा विरासत बचाओ सम्मेलन का आयोजन किया है। इसमें कई पार्टियों के नेता शिरकत करेंगे।”
RJD कार्यकर्ताओं ने किया शरद का स्वागत
– शरद ने नीतीश का नाम लिए बगैर कहा, “ऊपर-ऊपर से सरकार भले ही बन गई हो, लेकिन बिहार में महागठबंधन अभी भी कायम है।’
– शरद जब पटना एयरपोर्ट पहुंचे तो पार्टी से रमई राम को छोड़ कर कोई दूसरा नेता उनके स्वागत के लिए मौजूद नहीं था। पूर्व एमएलसी रामबदन राय भी साथ थे। जबकि पहले ये नजारा कुछ और होता था। शरद के साथ लालू के लिए नारेबाजी हुई और नीतीश के खिलाफ भी नारे लगाए गए। स्वागत के लिए बड़ी संख्या में आरजेडी कार्यकर्ता पहुंचे।
ये है शरद का प्रोग्राम
10 अगस्त: सोनपुर से अपनी यात्रा की शुरूआत करेंगे। इसके बाद हाजीपुर, सराय, भगवानपुर, गोरौल, तुर्की, रामदयालु नगर, गोबरसाही और भगवानपुर चौक में जनता से बातचीत करेंगे। वे मुजफ्फरपुर में रात्रि विश्राम करेंगे।
11 अगस्त: मुजफ्फरपुर के चांदनी चौक, जीरो माइल, गरहा, बोचाहा, मझौली, सर्फुद्दीनपुर, जारंग, गायघाट, बेनीबाद और दरभंगा की यात्रा के बाद मधुबनी में रात्रि विश्राम करेंगे।
12 अगस्त:सुपौल, सहरसा होते हुए वे मधेपुरा पहुंचेंगे।
शरद के खिलाफ कार्रवाई कर सकती है जेडीयू
– महागठबंधन (जेडीयू, आरजेडी और कांग्रेस) छोड़कर एनडीए में शामिल होने के नीतीश कुमार के फैसले से शरद यादव नाराज चल रहे हैं। नीतीश को बीजेपी के साथ मिलकर बिहार में सरकार बनाए 15 दिन हो चुके हैं, लेकिन शरद यादव खुलकर न सपोर्ट में आए हैं और न विरोध में।शरद की नाराजगी के बाद अब पार्टी उनके खिलाफ कार्रवाई कर सकती है। उन्हें पार्टी से निकाला भी जा सकता है। बता दें कि शरद गुरुवार से बिहार के तीन दिन के दौरे पर हैं।
असली लालची तुम हो नीतीश- लालू यादव
राजद के अध्यक्ष लालू प्रसाद ने कहा है कि शरद यादव ही ओरिजनल नेता हैं। असली लालची बिहार के सीएम नीतीश कुमार हैं। लालू प्रसाद गुरुवार को रांची सीबीआई कोर्ट में पेश होने के बाद प्रेस कांफ्रेंस में बाेल रहे थे। लालू ने कहा कि बिहार में हुए सृजन एनजीओ घोटाले की सीबीआई जांच होनी चाहिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »