आईएएस शालिनी काे तीन वर्ल्ड रिकॉर्ड बनाने पर मोदी ने किया सम्मानित

उदयपुर. प्रधानमंत्रीनरेन्द्र मोदी ने राजस्थान की आईएएस बेटी और गुजरात के अरावली जिले की जिला कलेक्टर शालिनी अग्रवाल को वहां तीन गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड बनाने पर गत 30 जून को सम्मानित किया है। जिला कलेक्टर शालिनी ने प्रधानमंत्री सुरक्षित मातृत्व अभियान के लिए विश्व में सर्वाधिक एक ही जिले की 1500 गर्भवती महिलाओं को एक शिविर में जुटाकर, 3000 छात्रों को एकत्रित कर विश्व का सबसे बड़ा लिफाफा मोजेक बनवाकर और प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना का विश्व का सबसे बड़ा प्रतीक चिन्ह बनाकर तीन वर्ल्ड रिकॉर्ड अपने नाम किए हैं।

शालिनी की इस उपलब्धि पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने उन्हें बधाई भी दी। 2005 के आईएएस बैच की जयपुर निवासी अाईएएस शालिनी अग्रवाल बीई इलेक्ट्रिकल से ग्रेजुएट हैं। जिनके पिता शिव कुमार अग्रवाल आईएएस रिटायर्ड आफिसर हैं। पिता राजस्थान में और बेटी गुजरात में कलेक्टर रहने के कारण चर्चा में रह चुके हैं। इनका मेवाड़ से भी काफी लगाव है।1500 गर्भवती महिलाओं को एक जाजम पर लाकर समझाया सुरक्षित मातृत्व योजना का महत्व उन्होंने बताया कि प्रधानमंत्री सुरक्षित मातृत्व अभियान को जन-जन तक पहुंचाने के लिए जिले की ही 1500 गर्भवती महिलाओं को शिविर में एक साथ जुटाया, जो वर्ल्ड रिकॉर्ड बना। शिविर का आयोजन जिला प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग ने किया था। इसके लिए भी बड़ी प्लानिंग की गई थी।
 111 वर्म मीटर के लिफाफा मोजेक पर 3000 छात्रों ने दिए जीवंत संदेश उन्होंने111 वर्ग मीटर के लिफाफा मोजेक पर एक साथ 3000 छात्रों से शिक्षा के जीवंत संदेश देते चित्र, संदेश, नारे, जनकल्याण कार्यक्रमों के लाभ आदि को उकेरवा कर भी विश्व कीर्तिमान बनाया।
172बच्चों ने बनाया सबसे बड़ा प्रतीक चिन्ह
अरावलीजिले के ही 172 अनाथ बच्चों से पलक माता-पिता योजना के तहत प्रधानमंत्री उज्जवला योजना विश्व का सबसे बड़ा 45*45 वर्ग फीट का प्रतीक चिन्ह बनवाकर भी विश्व कीर्तिमान बनाया है। कलेक्टर शालिनी अग्रवाल को तीन गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड बनाने पर सम्मानित करते प्रधानमंत्री मोदी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Translate »