वरिष्ठता में छठे नंबर में चल रहे आईएएस एनसी गोयल चार महीने के लिए राजस्थान के मुख्य सचिव

जयपुर. वरिष्ठ आईएएस अफसर एनसी गोयल प्रदेश की ब्यूरोक्रेसी के नए मुखिया होंगे। उन्हें मुख्य सचिव बनाने के आदेश शनिवार को जारी हो गए। वे मौजूदा मुख्य सचिव अशोक जैन की जगह लेंगे। मौजूदा मुख्य सचिव अशोक जैन का कार्यकाल रविवार को पूरा हो गया । इसी दिन गोयल कार्यभार ग्रहण कर लिया  उनका कार्यकाल चार माह का होगा।

1982 बैच के आईएएस अफसर गोयल वरिष्ठता में जैन की विदाई के बाद छठे नंबर पर हैं। सबसे सीनियर अशोक शेखर, गुरजोत कौर, राकेश श्रीवास्तव पहले से सचिवालय से बाहर हैं।

– शनिवार को तबादला सूची जारी कर राजहंस उपाध्याय और विपिनचंद शर्मा को भी सचिवालय के बाहर भेज दिया। गोयल के पास वन एवं पर्यावरण तथा पर्यटन विभाग के एसीएस का चार्ज था।

– सीएस के साथ उनके पास राज्य खान एवं खनिज निगम के चेयरमैन का भी अतिरिक्त चार्ज रहेगा।

– भाजपा सरकार के दिसंबर 2013 के बाद से अब तक के शासन में एनसी गोयल 5वें मुख्य सचिव हैं। पांचों में इनका कार्यकाल सबसे कम 4 माह का होगा।

कम समय में ज्यादा काम करने पर फोकस : गोयल
– गोयल का कहना है कि उनके पास समय कम है, इसलिए उनका फोकस सरकार के कामों में तेजी लाना होगा। पाइपलाइन में अटके प्रोजेक्ट को तेजी से पूरा कराएंगे।

डीबी गुप्ता के सीएस बनने की राह में बाधा बनी दो बड़ी वजह

7वां वेतनमान :सीएस की दौड़ में एसीएस फाइनेंस डीबी गुप्ता का नाम गोयल से भी आगे था। प्रदेश में लागू 7वें वेतनमान ने उनकी राह रोक दी। वेतनमान पहले अक्टूबर 2017 से लागू किया गया। विरोध हुआ तो जनवरी 2017 से लागू करना पड़ा। सरकार की इमेज खराब हुई। कर्मचारी संगठनों ने मोर्चा खोल दिया। कर्मचारियों की नाराजगी को दूर करने के लिए सरकार के मंत्रियों को सफाई देनी पड़ी। यदि वेतनमान का मामला ठीक ढंग से निपट जाता तो गुप्ता का सीएस बनना तय था।

सरकार का अंतिम बजट

बजट के लिए कम समय बचा है। गुप्ता को सीएस बनाया जाता तो उनकी जगह आने वाले अफसर को नए सिरे से चीजें देखनी पड़ती। गोयल का कार्यकाल 20 अप्रैल को पूरा होगा। उनकी जगह नए सीएस के रूप में गुप्ता को ही बड़ा दावेदार माना जा रहा है। वे सितंबर 2020 में रिटायर होंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »