एचसीएस अफसरों ने महिला आईएएस पर लगाया प्रताड़ित करने का आरोप

चंडीगढ़।प्रदेश सरकार के सामने एक और मुसीबत खड़ी हो गई है। प्रदेश की एचसीएस अफसरों की एसोसिएशन ने एक सीनियर महिला आईएएस अफसर सुकृति लिखी पर उन्हें प्रताड़ित करने का आरोप लगाते हुए उन पर कार्रवाई की मांग की है।
एचसीएस अॉफिसर्स एसोसिएशन ने इस सिलसिले में महिला अधिकारी वंदना दिसोदिया के आरोपों का उल्लेख करते हुए कहा है कि सुक्रति लिखी पहले भी बिना वजह अन्य एचसीएस अफसरों को प्रताड़ित करती रही हैं। उनके व्यवहार से कुछ अधिकारी डिप्रेशन की स्थिति में जाकर अस्पताल में भर्ती होने को मजबूर हुए। एसोसिएशन ने 3 मार्च को बैठक कर सुकृति लिखी के खिलाफ एक प्रस्ताव भी पास किया था। एसोसिएशन ने इस प्रस्ताव की प्रति को सीएम और मुख्य सचिव डीएस ढेसी को भेजी है।
इस पत्र में वंदना दिसोदिया से संबंधित मामले का उल्लेख किया गया है। वंदना दिसोदिया इस समय हैफेड में सचिव पद पर नियुक्त हैं। जबकि जिस महिला आईएएस सुकृति लिखी के खिलाफ शिकायत की गई है, वे भी हैफेड में प्रबंध निदेशक के पद पर नियुक्त हैं। सुकृति लिखी 1993 बैच की महिला अधिकारी हैं। जहां तक प्रशासनिक ढांचे की बात है तो आईएएस अफसरों के बाद एचसीएस अफसरों पर ही पूरे तंत्र के संचालन की जिम्मेदारी होती है।
इधर, सूत्रों के अनुसार वंदना दिसोदिया ने पिछले दिनों ही अपनी सीनियर सुकृति लिखी के व्यवहार के बारे में एसोसिएशन को सूचित किया था कि सुकृति लिखी ने सरकार द्वारा सौंपे गए काम उनसे (वंदना दिसोदिया) से वापस ले लिए हैं और हैफेड के डीजीएम को भी निर्देश दे दिए हैं कि सभी फाइलें दिसोदिया की बजाए सीधे उनके पास लाई जाएं। इसके अलावा सुकृति लिखी ने यह भी निर्देश दिए हैं कि हैफेड के चीफ एकाउंट अॉफिसर के छुट्टी के पीरिएड के दौरान वे यह जिम्मेदारी संभालें।
सूत्रों के अनुसार वंदना दिसोदिया का इस बारे में दलील है कि चीफ एकाउंट्स अॉफिसर का काम एक स्पेशलाइज्ड जिम्मेदारी है और यह काम केवल इसी कैडर के अफसर को ही सौंपा जा सकता है। इसके अलावा उनका यह भी तर्क है कि अगर किसी अफसर से कोई काम वापस लेने की बात है तो यह केवल सरकार के स्तर पर ही संभव है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »