योगी की टीम का हिस्सा बनेंगे गुजरात के आईएएस अफसर, एक ने की मुलाकात

लखनऊ। यूपी में सत्ता संचालन के लिए सीएम योगी आदित्यनाथ को कुछ भरोसेमंद नौकरशाहों की जरूरत पड़ेगी। अभी सचिवालय में अफसरों का टोटा है। ऐसे में योगी के ब्यूरोक्रेटिक टीम में कुछ बाहरी नाम शामिल होने की चर्चा है। इस चर्चा को सोमवार को उस वक्त पंख लग गए, जब गुजरात कैडर के एक आईएएस अफसर उनसे मुलाकात करने पहुंचे। इस अफसर के बारे में हर कोई जानता है कि वह पीएम नरेंद्र मोदी के काफी खास हैं। इनके अलावा गुजरात कैडर के ही एक अन्य मोदी प्रिय अफसर भी योगी की टीम में शामिल हो सकते हैं।

गुजरात कैडर के एक आईएएस अफसर सीएम योगी आदित्यनाथ से मुलाकात करने पहुंचे। खास बात यह है कि इस अफसर का नाम गिनीज बुक आॅफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में भी शामिल है। इनके अलावा अहमदाबाद में तैनात सचिव स्तर के एक और अफसर लखनऊ आ सकते हैं। सीएम योगी से मिलने वाले ये अफसर कोई और नहीं, बल्कि गुजरात कैडर के और 2006 बैच के आईएएस अफसर आलोक कुमार पाण्डेय हैं। वर्तमान में वे गुजरात के मेहसाणा में बतौर डीएम तैनात हैं। आलोक कुमार पाण्डेय के बारे में कहा जाता है कि वे पीएम मोदी के पसंदीदा अफसरों में से एक रहे हैं। माना जा रहा है कि पीएम मोदी की सलाह पर योगी उन्हें अपने सेक्रेटेरियट में शामिल कर सकते हैं। सिविल सर्विसेज में अपने गृह राज्य में अन्तर्राज्यीय प्रतिनियुक्ति के तहत तीन साल का मौका मिलता है, जिसे विशेष परिस्थितियों में बढ़ाकर पांच साल तक किया जा सकता है। आलोक कुमार पाण्डेय सुल्तानपुर जिले के रहने वाले हैं और उनका जन्म 16 दिसम्बर 1978 को हुआ था। उन्होंने इलाहाबाद यूनिवर्सिटी से एमए (प्राचीन इतिहास) की पढ़ाई पूरी की है, जिसके बाद उनका सेलेक्शन सिविल सर्विसेज में हुआ था।

आलोक मेहसाणा में कार्यभार सम्भालने से पहले गुजरात के जामनगर, जूनागढ़ और अमरेली जिलों में अपनी सेवाएं दे चुके हैं। आलोक की उत्कृष्ट सेवाओं को देखते हुए उन्हें दो बार सीएसआई अवार्ड से सम्मानित किया जा चुका है। आलोक कुमार पाण्डेय का नाम गिनीज बुक आॅफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में भी शामिल हो चुका है। यह उस समय हुआ, जब आलोक जूनागढ़ में बतौर डीएम तैनात थे। साल 2015 में सिंगल माउंट एसेन्ट इवेंट (एक पहाड़ पर एकसाथ सबसे ज्यादा लोगों के चढ़ने का काम्पटीशन) आयोजित हुआ था। इस इवेंट का नाम गिनीज बुक आॅफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में शामिल किया गया था। जूनागढ़ का डीएम और इवेंट का आयोजक होने के कारण आलोक कुमार पाण्डेय का नाम भी गिनीज बुक आॅफ वर्ल्ड रिकार्ड्स में शामिल हुआ था। दूसरी तरफ 1999 बैच के आईएएस अधिकारी हरीत शुक्ला के भी उत्तर प्रदेश आने के आसार हैं। फिलहाल वे अहमदाबाद के विकास आयुक्त पद पर तैनात हैं।

नरेन्द्र मोदी ने अपने मुख्यमंत्रित्व काल में हरीत शुक्ला को अहमदाबाद जैसे अहम जिले का कलेक्टर बनाया था और इस पद पर वे 3 साल 5 महीने तक तक तैनात रहे। शुक्ला टेक्सटाइल इंजीनियरिंग ग्रेजुएट हैं और इंटरमीडिएट तक की पढ़ाई उन्होंने उत्तर प्रदेश में की है। हरीत शुक्ला के पिता केके शुक्ला उत्तर प्रदेश कैडर के वरिष्ठ पीसीएस अधिकारी रहे हैं, जिन्हें सेवाकाल के उपरान्त आईएएस संवर्ग में सांकेतिक प्रोन्नति दी गई थी। जानकार सूत्रों के मुताबिक, इन दोनों अफसरों के बारे में पीएमओ में तैनात वरिष्ठ आईएएस अधिकारी अरविन्द शर्मा ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को अवगत करा दिया है। अरविन्द शर्मा को पीएमओ में प्रधानमन्त्री के सबसे भरोसेमंद अफसर के तौर पर जाना जाता है। उल्लेखनीय है कि अरविन्द शर्मा गुजरात कैडर के आईएएस अधिकारी हैं और उत्तर प्रदेश के मऊ जिले के निवासी हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »