210 करोड़ की संपत्ति के मालिक हैं पूर्व IAS मनदीप सिंह ,गिरफ्तार हुए जेल में पीसेंगे चक्की

मोहाली। मंगलवार को पंजाब विजिलेंस ब्यूरो ने सेवानिवृत आईएएस अफसर मनदीप सिंह को आय से अधिक संपत्ति के मामले में उनके घर से गिरफ्तार किया है। उनके खिलाफ आय से अधिक संपत्ति और भ्रष्टाचार अधिनियम के तहत चंडीगढ़ विजिलेंस ब्यूरो ने मामला दर्ज है। मनदीप सिंह को मंगलवार को जिला अदालत में पेश किया गया। जहां से उन्हें न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया।अदालत में पेश करने से पहले सिंह को फेज-6 के सिविल अस्पताल में लाया गया जहां उनका मेडिकल कराया गया। मनदीप सिंह विवादों में रहे अफसर रहे हैं। उनके खिलाफ सीबीआई जांच भी चल रही है। सिंह के खिलाफ आरोप है कि डायरेक्टर रूलर डेवलपमेंट के पद पर रहते हुए उन्होंने पंचायत सचिवों की भर्ती में धांधली की। इस मामले में उनके खिलाफ जांच चल रही है। करोड़पति आईएएस अफसर की संपत्तियां भी उनके खुद के नाम पर नहीं है। विजिलेंस ब्यूरो के सूत्रों के मुताबिक एफआईआर में चंडीगढ़ के सेक्टर-8 और सेक्टर-34 में दो रिहायशी संपत्तियां, चंडीगढ़ के पास एक बड़ा होटल, चमकौर साहिब में 150 एकड़ जमीन है। ये सभी संपत्तियां आईएएस की पत्नी और बेटे के नाम पर है। विजिलेंस ब्यूरो ने कहा कि इन में से ज्यादातर संपत्तियां जांच के दौरान बेच दी गई। बता दें कि मनदीप सिंह डायरेक्टर ट्रांसपोर्ट, सचिव जंगललात, कमिशनर गुरूद्वारा इलेक्शन भी रहे है।

जांच अधिकारी उत्तर प्रदेश, दिल्ली, गुड़गांव और राजस्थान में भी उनकी बेनामी संपत्ति होने की जांच कर रहे हैं। मनदीप सिंह 31 मई 3015 को रिटायर हुए थे। 26 अगस्त 2015 को भ्रष्टाचार के आरोप में केस दर्ज किया गया था। उनकी जमानत याचिका लोअर कोर्ट और हाईकोर्ट से खारिज होने के बाद उन्हें सोेमवार रात को अरेस्ट किया था।
यहां फैला है अफसर का साम्राज्य
{मनदीप सिंह का शिमला में होटल {पत्नी के नाम पर कोठी मिपाशा काॅटेज {चंडीगढ़ के सेक्टर-8, 33 और 34 में एक-एक कनाल की तीन कोठियां, शोरूम {जीरकपुर में राॅयल मार्क होटल {नंगल में 350 एकड़ जमीन {चमकौर साहिब के गांव मालेवाल में 110 एकड़ जमीन और अन्य प्राॅपर्टी का पता चला है। मनदीप ने अपने बेटे और पत्नी के नाम पर ही ज्यादातर प्राॅपर्टी खरीदी, जबकि कुछ प्राॅपर्टी उन्हें अपने पिता से जायदाद में मिली। जीरकपुर के होटल मार्क राॅयल में मनदीप सिंह का 80 फीसदी शेयर है।
बैंक खाते सील, बेटे व पत्नी के नाम करोड़ों की लिमिट
मनदीप सिंह और उनके पारिवारिक सदस्यों के एचडीएफसी बैंक, सेक्टर-32, चंडीगढ़, सेक्टर-22, इलाहाबाद बैंक रोपड़, इंडसइंड बैंक, सेक्टर-8, चंडीगढ़ में खाते हैं। इनमें करीब सवा करोड़ की एफडीज के अलावा सेक्टर-22 के बैंक से खेतीबाड़ी पर एक करोड़ 3 लाख की और इलाहाबाद बैंक से बेटे नवजोत सिंह और पत्नी माया देवी उर्फ नवनीत कौर के नाम पर 50 लाख की लिमिट बनवा रखी थी। उनके बैंक खाते सील कर दिए गए हैं और जांच की जा रही है।
 कमाई से ज्यादा किए गए खर्चों ने फंसाया
मनदीप सिंह की रिलायबल रिसोर्सेज से आमदनी 4 करोड़ 13 लाख 85 हजार 471 रुपए शो की गई थी। जबकि जांच में 1-4-98 से 31-3-2014 तक उनका खर्च 9 करोड़ 70 हजार 490 रुपए यानी आय से 5 करोड़ 48 हजार 210 रुपए ज्यादा पाया गया। इससे साफ है कि उन्होंने यह पैसा भ्रष्टाचार से अर्जित किया। जितनी आय उन्होंने बताई, जांच में उससे 130 फीसदी ज्यादा आय पाई गई।
  इन पदों पर रहे तैनात
पूर्व आईएएस अफसर मनदीप सिंह स्टेट ट्रांसपोर्ट डिपार्टमेंट में सेक्रेटरी, मोगा में डीसी, सोशल वेलफेयर, पंचायती राज और अन्य डिपार्टमेंट्स में अलग-अलग पदों पर रहे हैं। उनकी सन्नी एन्क्लेव में भी प्राॅपर्टी की जांच चल रही है।
 इन्हें भी बनाया अमीर
मनदीप के साथ जिन्हें आरोपी बनाया गया है, उनमें जीरकपुर का अवतार और चमकौर साहिब का मक्खन भी शामिल हैं। अवतार जीरकपुर में मार्क राॅयल होटल में पार्टनर है, जबकि मक्खन के नाम 110 एकड़ जमीन लेकर मनदीप ने अपने नाम पर ट्रांसफर करवाई।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »