8 राज्यों में बाई इलेक्शन :10 विधानसभा सीटों में से BJP ने 5 जीती लेकिन मप्र की अटेर कांग्रेस ने जीत ली

नई दिल्ली. 8 राज्यों में 10 विधानसभा सीटों पर हुए बाई इलेक्शन की काउंटिंग जारी है। बीजेपी ने हिमाचल की भोरंज, असम की धेमाजी, मध्य प्रदेश की बांधवगढ़, राजस्थान की धौलपुर और दिल्ली की राजौरी गार्डन सीट जीत ली है। कांग्रेस को कर्नाटक में 2 सीट मिली हैं। बता दें कि मध्य प्रदेश, असम, राजस्थान, कर्नाटक, दिल्ली, हिमाचल प्रदेश, पश्चिम बंगाल और झारखंड में 9 अप्रैल को वोट डाले गए थे। वहीं, श्रीनगर लोकसभा सीट पर हुए बाई इलेक्शन में हिंसा के बाद गुरुवार को फिर से 38 पोलिंग बूथ पर वोटिंग जारी है। 11 बजे तक यहां 1% से ज्यादा वोटिंग दर्ज हुई। बीजेपी ने हिमाचल की भोरंज सीट पर जीत दर्ज की। बीजेपी कैंडिडेट अनिल धीमान ने यह बाई इलेक्शन 8290 वोट से जीत लिया है।

मध्य प्रदेश के भिंड जिले के अटेर और उमरिया जिले की बांधवगढ़ सीट पर हुए विधानसभा उपचुनाव में भाजपा-कांग्रेस अपनी-अपनी सीट बचाने में सफल हो गई दरअसल बांधवगढ़ सीट पहले ही भाजपा, जबकि अटेर कांग्रेस के कब्जे में थी। हालांकि अटेर की सीट जीतने के लिए भाजपा ने पूरी ताकत झोंक दी थी। यहां पूर्व केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया और मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की प्रतिष्ठा दांव पर लगी हुई थी।
ईवीएम पर सवाल उठाने वाले अब जवाब दें: नरोत्तम मिश्रा
सबसे पहले बांधवगढ़ का परिणाम सामने आया। यहां भाजपा के शिवनारायण सिंह ने कांग्रेस की सावित्री सिंह को 25476 वोटों से हरा दिया। वहीं अटेर में कांग्रेस के हेमंत कटारे ने कड़े मुकाबले में भाजपा के अरविंद भदौरिया को 857 वोटों से हराया। अटेर में भाजपा की हार पर प्रदेश अध्यक्ष नंदकुमार सिंह चौहान ने कहा कि, हेमंत को वोटरों की सहानुभूति मिली। हमें उम्मीद थी कि, कुछ न कुछ वोटों से हम जीतेंगे। वहीं मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कांग्रेस पर कटाक्ष करते हुए कहा, कि ईवीएम पर सवाल उठाने वाले अब जवाब दें।
  रिजल्ट हैरान करने वाला है :अजय सिंह
बांधवगढ़ में भाजपा की जीत के बाद मप्र विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह ने आश्चर्य जताया है। उन्होंने कहा कि यह रिजल्ट हैरान करने वाला है। दरअसल, उन्होंने पहले ही ईवीएम मशीनों में गड़बड़ी की आशंका जताई थी। उधर, भाजपा के प्रदेश प्रवक्ता दीपक विजयवर्गीय ने कहा कि, बांधवगढ़ की जनता ने विकास को तवज्जो दी है।
आप तीसरे नंबर पर खिसक गई
दिल्ली में राजौरी गार्डन सीट से बीजेपी-अकाली गठबंधन के कैंडिडेट मनजिंदर सिंह सिरसा ने जीत दर्ज की है। कांग्रेस दूसरे नंबर है। आप तीसरे नंबर पर खिसक गई।
सिरसा ने 14,652 वोट से जीत दर्ज की है।
– वहीं, असम की धेमाजी सीट भी बीजेपी ने कब्जा किया है। पार्टी कैंडिडेट रानोज पेंगु ने 9,285 वोट से जीत दर्ज की।
– राजस्थान की धौलपुर सीट भी बीजेपी के खाते में गई है। इस सीट पर बीजेपी की शोभारानी कुशवाह ने कांग्रेस के बनवारीलाल शर्मा को 38648 वोटों से हरा दिया।
– बीजेपी ने मध्य प्रदेश के उमरिया जिले की बांधवगढ़ सीट पर जीत ली है। वहीं, भिंड जिले की अटेर सीट पर बीजेपी पीछे चल रही है। कांग्रेस के हेमंत कटारे बढ़त बनाए हुए हैं।
इन सीटों पर कांग्रेस आगे, टीएमसी ने कांठी सीट जीती
– वेस्ट बंगाल की कांठी साउथ सीट पर टीएमसी ने जीत ली है। टीएमसी की चंद्रिमा भट्टाचार्य ने इस सीट पर 42 हजार वोटों से जीत दर्ज की।
– उधर, कर्नाटक की नंजनगढ़ और गुंदलूपेट सीट पर कांग्रेस के खाते में गई है। नंजनगढ़ से केएन केशवमूर्ति ने 21,334 और गुंदलूपेट से एमसी मोहन कुमारी ने करीब 10,877 वोटों से जीत दर्ज की।
– इसके अलावा, झारखंड की लिट्टीपाड़ा सीट पर जेएमएम (झारखंड मुक्ति मोर्चा) आगे चल रही है।
श्रीनगर की लोकसभा सीट के लिए आज फिर वोटिंग
– श्रीनगर लोकसभा सीट के 39 पोलिंग बूथ पर गुरुवार को वोटिंग कराई जा रही है। बता दें कि इस सीट पर 9 अप्रैल को हिंसा हुई थी। यहां 7 फीसदी वोटिंग रही थी। इलेक्शन कमीशन ने इन पोलिंग बूथ पर फिर से वोटिंग कराने का फैसला लिया था।
कहां-कितनी हुई वोटिंग
– मध्य प्रदेश के भिंड जिले की अटेर में 60%, उमरिया जिले की बांधवगढ़ सीट पर 67% और दिल्ली की राजौरी गार्डन में 44% वोट पड़े थे।
– असम की धेमाजी सीट पर 67%, हिमाचल प्रदेश के भोरंज में 63%, वेस्ट बंगाल के कांठी में 80% वोटिंग हुई थी।
– जम्मू-कश्मीर की श्रीनगर लोकसभा सीट पर हिंसा के बीच सिर्फ 7.14% वोट डाले गए। राजस्थान के धौलपुर में 77% वोटिंग हुई थी।
– कर्नाटक की नंजनगढ़ में 76% और गुंदलूपेट 78% वोटिंग हुई थी।
बैलेट पेपर से चुनाव कराने की हुई थी मांग
– मप्र के भिंड जिले की अटेर और उमरिया जिले की बांधवगढ़ विधानसभा सीट पर बाई इलेक्शन से पहले वोटर वेरिफाइड पेपर ऑडिट ट्रेल (वीवीपीएटी) मशीन को लेकर विवाद उठा था। इसके बाद भिंड कलेक्टर और एसपी को हटा दिया गया था। कांग्रेस ने बैलेट पेपर से चुनाव कराने की मांग की थी।
– बाद में अरविंद केजरीवाल ने भी ईवीएम मशीनों पर सवाल उठाया था। इस पर चुनाव आयोग ने कहा था कि बाई इलेक्शन्स में यूपी असेंबली इलेक्शन में इस्तेमाल की जा चुकी ईवीएम यूज नहीं की जाएंगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »