हजारों करोड़ के कर्ज में डूबी आर कॉम , अनिल अंबानी ने निदेशक पद छोड़ा

अनिल अंबानी ने कर्ज के बोझ से दबी कंपनी रिलायंस कम्युनिकेशंस (आरकॉम) के निदेशक पद से इस्तीफा दे दिया है. कंपनी ने शनिवार को शेयर बाजारों को ये जानकारी दी.

इन निदेशकों ने भी दिया इस्तीफा

फाइलिंग के अनुसार अनिल अंबानी के साथ छाया विरानी, रायना किरानी, मंजरी कैकर, सुरेश रंगाचार ने भी अपने निदेशक पद से इस्तीफा दे दिया है। फाइलिंग में कहा गया है कि कंपनी के निदेशक और चीफ फाइनेंशियल ऑफिसर मनिकांतन वी पहले ही अपने इस्तीफा दे चुके हैं। इन सभी इस्तीफों को विचार-विमर्श के लिए कंपनी की कमेटी ऑफ क्रेडिटर्स के पास भेजा गया है। आरकॉम फिलहाल दिवालिया प्रक्रिया से गुजर रही है।इससे पहले मणिकंतन वी ने कंपनी के निदेशक और मुख्य वित्त अधिकारी (सीएफओ) का पद छोड़ा था. कंपनी ने कहा है कि इन इस्तीफों को कंपनी के ऋणदाताओं की समिति (सीओसी) के समक्ष विचारार्थ रखा जाएगा.

जुलाई-सितंबर तिमाही में 30,142 करोड़ का घाटा

आरकॉम फिलहाल दिवाला प्रक्रिया में है. सुप्रीम कोर्ट के फैसले की वजह से कंपनी को अपनी देनदारियों के लिए भारी-भरकम प्रावधान करना पड़ा है. इससे चालू वित्त वर्ष की जुलाई-सितंबर तिमाही में कंपनी को 30,142 करोड़ रुपये का घाटा हुआ है. कंपनी ने इससे पिछले वित्त वर्ष की समान तिमाही में 1,141 करोड़ का शुद्ध लाभ कमाया था.

सुप्रीम कोर्ट के दूरसंचार कंपनियों के सालाना समायोजित सकल राजस्व (एजीआर) की गणना पर फैसले के मद्देनजर कंपनी ने 28,314 करोड़ रुपये का प्रावधान किया है.

आरकॉम की कुल देनदारियों में 23,327 करोड़ का लाइसेंस शुल्क और 4,987 करोड़ का स्पेक्ट्रम इस्तेमाल शुल्क शामिल है. आरकॉम और उसकी सब्सिडियरी कंपनियों ने 1,210 करोड़ के ब्याज और 458 करोड़ के विदेशी विनिमय उतार-चढ़ाव के लिए प्रावधान नहीं किया है.

आरकॉम ने कहा कि यदि इसके लिए प्रावधान किया जाता तो उसका नुकसान 1,668 करोड़ रुपये और बढ़ जाता. तिमाही के दौरान कंपनी की परिचालन आय घटकर 302 करोड़ रुपये रह गई जो इससे पिछले वित्त वर्ष की समान तिमाही में 977 करोड़ रुपये थी. बंबई शेयर बाजार में आरकॉम का शेयर 3.28 फीसदी टूटकर 59 पैसे पर बंद हुआ.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Translate »