सुसाइड करने वाले डीएम मुकेश पांडेय के ससुर बोले- कायर था दामाद पता होता तो बेटी की शादी नहीं करता

डीएम मुकेश पांडेय ने सुसाइड करने के पहले वॉट्सऐप मैसेज में लिखा- आई एम सॉरी। आई लव यू ऑल। प्लीज फॉरगिव मी।

 

पटना (बिहार).बक्सर के डीएम मुकेश पांडेय ने गाजियाबाद में सुसाइड कर लिया। सुसाइड से पहले उन्होंने वॉट्सऐप पर मैसेज भेजा। गुरुवार की रात डीएम की डेडबॉडी गाजियाबाद रेलवे स्टेशन के पास रेलवे ट्रैक पर मिली । बता दें कि वे सारण डिस्ट्रिक्ट के रहने वाले थे। 2012 बैच के आईएएस अफसर थे। मुकेश की बीते 4 अगस्त को ही पहली बार डीएम के रुप में पोस्टिंग हुई थी। सुसाइड के बाद मुकेश की पत्नी, सास, ससुर और साला भी घटनास्थल पर पहुंचे। ससुर ने कहा क‍ि अगर पता होता कि दामाद इतना कायर है तो उससे कभी बेटी की शादी नहीं करते।ससुरालियों ने दामाद को बुजदिल करार देते हुए कहा कि वो मुश्किलों का सामना करने करने के लिए तैयार नहीं था। इसीलिए उसने ऐसा कदम उठाया और अपनी 3 महीने की बेटी को छोड़ गया। मुकेश की सास-ससुर ने कहा कि अगर उन्हें पता होता कि वह इतना कायर है तो वे अपनी बेटी की शादी किसी भी कीमत पर उससे नहीं करते।- परिजनों की ये बातें सुन मौके पर मौजूद अफसरों ने कहा कि आत्महत्या के पीछे पारिवारिक विवाद लग रहा है। बाकी जांच के बाद ही मामला साफ हो पाएगा।गाजियाबाद के डीएम मिनिस्ती एस के मुताबिक, गुरुवार की सुबह ही मुकेश दिल्ली पहुंचे थे और यहां लीला होटल में ठहरे थे। दिल्ली पुलिस से जानकारी मिली है कि उन्होंने पहले लीला पैलेस होटल की बालकनी से कूदकर सुसाइड करने की कोश‍िश की थी, लेक‍िन लोगों ने उन्हें रोक लिया था

बताया जा रहा है कि मुकेश पांडेय दो दिनों की छुट्टी पर गुरुवार सुबह डीडीसी को प्रभार देकर वे वाराणसी होकर फ्लाइट से दिल्ली आए थे। होटल लीला पैलेस के कमरा नंबर 724 में ठहरे थे। शुरुआती जांच में पता चला है कि शाम में मुकेश पश्चिमी दिल्ली के एक मॉल में भी गए थे। एक दोस्त से मुलाकात करने के बाद वे निकल गए। फिर रात 9 बजे के बाद उनकी डेडबॉडी गाजियाबाद स्टेशन से एक किलोमीटर दूर कोटगांव के पास रेलवे ट्रैक से बरामद की गई। डीएम की बॉडी दो पार्ट में मिली है। शुक्रवार को पोस्टमार्टम किया जाएगा।
– बताया जा रहा है कि गुरुवार की सुबह ही मुकेश को सूचना मिली थी कि उनकी फैमिली में किसी को हार्ट अटैक आया है।
– बक्सर से पहले मुकेश बेगूसराय के बलिया अनुमंडल में एसडीएम व कटिहार में डीडीसी के पद पर सेवा दे चुके थे। 2012 में ऑल इंडिया में 14वीं रैंक लानेवाले मुकेश को साल 2015 में संयुक्त सचिव रैंक में प्रमोशन मिला था।
– उधर, सीएम नीतीश कुमार ने मुकेश की मौत पर दुख जताया है। उन्होंने कहा कि वह काफी सक्षम और संवेदनशील अफसर था। उसकी आत्मा को शांति मिले। उनके परिजनों से मिलने पहुंचे बक्सर के सांसद अश्विनी चौबे ने कहा मैं सदमे में हूं. उन्होंने कहा कि मुकेश बेहद होशियार नौजवान थे, मुझे ये भरोसा ही नहीं रहा है कि उन्होंने आत्महत्या कर ली है. देश के कई आईएएस एसोसिएशनों ने भी इस घटना पर गहरा दुख व्यक्त किया है.
डेडबॉडी के पास से मिला सुसाइड नोट

– देर रात 11 बजे डीजीपी पीके ठाकुर ने डीएम के सुसाइड किए जाने की पुष्टि की। बताया कि सुसाइड नोट भी मिला है। इस बारे में गाजियाबाद पुलिस जांच कर रही है। इस बात की जानकारी नहीं मिली है कि उन्होंने ऐसा क्यों किया।सर्किट हाउस में काम करने वाले एक कर्मचारी से बात की. उस कर्मचारी का कहना है, डीएम साहब पिछले एक सप्ताह से सर्किट हाउस में ठहरे हुए थे. बुधवार को वह पूरी रात लॉन में टहलते रहे. रात डेढ़ बजे अचानक ही बोले कि मैं पटना निकल रहा हूं. वह काफी बेचैन नजर आ रहे थे. मुझे समझ में नहीं आया कि आखिर रात को डेढ़ बजे क्यों पटना के लिए निकल रहे हैं?करीबी कहते हैं कि मुकेश कुमार पांडेय की वैवाहिक जीवन सुखी नहीं था. शादी के बाद बहुत दिनों तक पत्नी साथ नहीं रही थीं. बेटी की परेशानी को कम करने के लिए पिता राकेश कुमार सिंह ने बेटी को अपने कारोबार में व्यस्त रखते थे.तीन साल पहले ही उनकी शादी पटना के सबसे महंगे होटल मौर्या में हुआ था.

हैरान करने वाली बात यह है कि बक्सर डीएम ने अपने सुसाइड की कहानी सर्किट हाउस में ही तैयार कर ली थी. जिस तरह से पिछले कुछ दिनों से वह सर्किट हाउस में रात-रात भर जगते थे. उससे डीएम की मानसिक स्थिति का पता चलता है. मुकेश कुमार पांडेय अपना ऑफिशियल मोबाइल फोन दिल्ली निकलते हुए सर्किट हाउस में ही छोड़ दिया था.

वॉट्सऐप पर किया मैसेज
– होटल की 10 वीं फ्लोर से कूद कर आत्महत्या करने जा रहा हूं। मैं जीवन से निराश हूं। सुसाइड नोट होटल लीला पैलेस के कमरा नंबर 742 में मेरे नाइक के बैग में रखा है।’ आखिरी पंक्तियों में लिखा है ‘आई एम सॉरी। आई लव यू ऑल। प्लीज फॉरगिव मी।’ (मुझे माफ करो। मैं आप सबसे प्यार करता हूं। कृपया मुझे भूल जाएं।)बता दें कि मुकेश ने मैट्रिक और हायर सेकेंडरी की शिक्षा गुवाहाटी से ही ली थी। मुकेश 2012 बैच के आईएएस अधिकारी थे। मुकेश दो भाइयों में छोटे थे। उनके बड़े भाई राकेश पांडेय मास्को में हैं। मुकेश पांडेय की शादी दो साल पूर्व पटना में हुई थी। 
 सन्न हुए संझा गांव के लोग, ससुराल में पसरा सन्नाटा 

 मूल रूप से बिहार के सारण जिले के निवासी मुकेश पांडेय गुरुवार सुबह ही बक्सर के उपविकास आयुक्त मोबिन अली अंसारी को प्रभार सौंप दिल्ली गए थे। वे लीला पैलेस होटल में ठहरे थे। पिछले दिनों ही बक्सर डीएम के तौर पर पदस्थापित किए गए थे। बक्सर में पदस्थापना से पहले वे कटिहार में डीडीसी थे। सारण के लाल मुकेश पांडेय के बक्सर में डीएम बनने की खुशी छह दिन भी नहीं रही। दिल्ली से गुरुवार देर रात जैसे ही उनके आत्महत्या करने की खबर सारण जिले के दरियापुर प्रखंड के संझा गांव में पहुंची, लोग हक्के-बक्के रह गए। हर कोई घटना का कारण जानने को बेचैन था। रात भर लोग एक-दूसरे से घटना की विस्तृत खबर लेने का प्रयास करते रहे। कई लोग टीवी के सामने बैठ गए तो कुछ लोग मोबाइल से अपने परिचितों से घटना की जानकारी लेने में लग गए। मुकेश पांडेय के पिता डॉक्टर सुदेश्वर पांडेय असम में रहते हैं। उनके चाचा वशिष्ठ पांडेय असम में ही एक हिन्दी अखबार के वरिष्ठ पत्रकार हैं। मुकेश की स्कूली पढ़ाई गुवाहाटी में ही हुई थी। मुकेश 2012 बैच के आईएएस अधिकारी थे। मुकेश दो भाइयों में छोटे थे। उनके बड़े भाई राकेश पांडेय मास्को में हैं। उन्हें भी घटना की जानकारी दे दी गई है। मुकेश पांडेय की शादी दो साल पूर्व पटना के एक बड़े घराने में  हुई थी। बाढ़ के रहने वाले जाने-माने ठेकेदार की पोती से उनकी शादी हुई थी।  मुकेश पांडेय के पटना स्थित ससुराल में सन्नाटा पसरा था। डाकबंगला से कुछ ही दूरी पर स्थित रेडियो स्टेशन के पीछे डीएम का ससुराल है। यहीं पर उनके ससुर और ऑटोमोबाइल्स कारोबारी राकेश सिंह रहते हैं। देर रात उनके घर में सन्नाटा पसरा था। बाहर से सारी लाइटें जली थीं। दूसरी ओर शोरूम में तैनात कर्मियों को भी काफी देर तक इस घटना की खबर नहीं थी। मालिक के दामाद की मौत की खबर सुनकर वे भी अवाक रह गए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »