मंत्रालय में ओएसडी बनाईं आईएएस नेहा मारव्या ने पूछा – उनसे क्या खता हुई

भोपाल| कृषि विभाग में उप सचिव व आईएएस अधिकारी नेहा मारव्या को फिर हटाकर मंत्रालय में ओएसडी बना दिया गया है। पूर्व में खेल मंत्री यशोधरा राजे, सीनियर आईएएस अफसरों, कलेक्टर समेत अधीनस्थ अफसरों के साथ विवादों में रहीं मारव्या को कुछ समय पहले ही कृषि विभाग में पदस्थ किया था, लेकिन बताया जा रहा है कि यहां भी अधीनस्थ अफसरों से उनकी नहीं बनी। अफसरों ने विभाग के सीनियर अफसरों को शिकायत कर दी। इसके बाद ही उन्हें हटाया गया। नियम कायदों की मनमानी समीक्षा और बेतुके आदेश जारी करने के मामले में विवादित रही महिला आईएएस एवं शिवपुरी की प्रभारी कलेक्टर रह चुकीं से  नेहा मारव्या सभी नाराज थे । सरकार में शामिल मंत्री, विपक्ष में कांग्रेस और मुख्य सचिव बसंत प्रताप सिंह तक उनकी इस हरकत से नाराज थे ।

नेहा मारव्या ने पूछा है कि उनसे क्या खता हुई

आईएएस अफसर नेहा मारव्या विभाग के प्रमुख सचिव और जीएडी कार्मिक को पत्र लिखकर पूछा है कि उनसे क्या खता हुई, क्या दुर्व्यवहार उन्होंने किया जिसके कारण उन्हें हटाया गया है। आईएएस नेहा मारव्या अपनी कार्यशैली के कारण लगातार चर्चित रही है। शिवपुरी जिला पंचायत में मुख्य कार्यपालन अधिकारी के पद पर रहते हुए कलेक्टर से कार के विवाद होने के बाद वहां से हटाकर सरकार ने उन्हें पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग में भेजा था लेकिन विभाग के तत्कालीन अपर मुख्य सचिव राधेश्याम जुलानिया से विवाद के कारण दो माह बाद ही उन्हें कृषि विभाग में उपसचिव बना दिया गया था। यहां भी उनकी कार्यशैली के चलते एक अवर सचिव ने तो अपना विभाग ही बदलवा लिया।

 मांगी शिकायत की कापी
विभाग से हटने के बाद नेहा ने पीएस को पत्र लिखकर इसकी कापी जीएडी और एपीसी को दी है। इसमें उन्होंने उस शिकायत की कापी मांगी है जिसके आधार पर उन्हें हटाया गया है। इसी तरह कृषि संचालक मोहनलाल मीना ने एक स्टेनो उनके पास मंत्रालय में अटैच किया तो इस पर ही सवाल खड़े कर दिए कि इसकी प्रक्रिया क्या है, अब तक कितने कर्मचारी इस तरह अटैच किए गए। मंत्रालय में उनके अधीनस्थ काम कर रही अवर सचिव स्तर की अधिकारी तो उनके व्यवहार से चार बार रो पड़ी है।

  • कृषि विभाग में आने के बाद 11 ड्राइवर बदल चुकी है
  • एप्पल का लेपटॉप न मिलने से हो गई थीं नाराज
  • गाड़ी में ज्यादा डीजल के लिए मंडी अफसरों से भिड़ीं
  • कर्मचारी की कैंसिल कर खुद छुट्टी पर गई
  • पंचायत सीईओ रहते रोक दिया कलेक्टर की कार के किराए का भुगतान
  • शिवपुरी में मंत्री यशोधरा राजे सिंधिया के एक कार्यक्रम में भी नहीं पहुंची थीं

बोलीं-मुझे कुछ नहीं कहना : इस पूरे मामले पर जब आईएएस नेहा मारव्या से बात की गई तो उन्होंने यह स्वीकार किया कि उन्हें कृषि विभाग से हटा कर मंत्रालय में ओएसडी बनाया गया है लेकिन क्या उन्हें शिकायतों के आधार पर हटाया गया है इस सवाल पर उन्होंने कहा कि मुझे इस पर कुछ नहीं कहना।

CM के पीएस की फाइलों में भी लगाया पेंच
उद्यानिकी विभाग और मुख्यमंत्री के प्रमुख सचिव अशोक बर्णवाल की अनुपस्थिति में जब उन्हें विभाग का चार्ज मिला तो उन्होंने पीएस की फाइलों पर भी पेच लगा दिए। इसके चलते उनका चार्ज बदलकर दूसरे अधिकारी को दिया गया।

IAS रश्मि से कहा था मेरा यही पैटर्न है 
सूत्रों के मुताबिक जीएडी की पीएस रश्मि अरुण शमी और कृषि विभाग के पीएस उन्हें बिठाकर समझा चुके है। लेकिन वे नहीं मानी उनका कहना था कि हमारे काम करने का तो यही पैटर्न है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »