पुलिस हड़ताल : डीजीपी ने आईजी, एसपी से कहा -जो भी आंदोलन में जाए, उसे 311 की नोटिस थमाएं

रायपुर.पुलिस कर्मी अपने परिजनों के जरिए 14 सूत्रीय मांगों को लेकर प्रदेशभर में आंदोलनरत हैं। 25 जून को राजधानी में आकर सीएम हाउस के घेराव की भी योजना है। उससे पहले पुलिस मुख्यालय ने अपने विभाग में सुलगे इस आक्रोश से निपटने पूरी तैयारी कर ली है। मंगलवार को डीजीपी एएन उपाध्याय ने राज्य के सभी आईजी-एसपी से वीडियो कांफ्रेंसिंग की। यूं तो वीडियो कांफ्रेंसिंग आगामी विधानसभा चुनाव की तैयारियों को लेकर था, लेकिन इस दौरान पूरा फोकस पुलिस विभाग में पनप रहे असंतोष और आंदोलन पर था।

– इससे पहले सोमवार रात मुख्यमंत्री रमन सिंह और गृहमंत्री रामसेवक पैकरा ने आला पुलिस अफसरों की बैठक लेकर स्थिति की स समीक्षा की थी। उसी बैठक में तय किया गया था कि इस आंदोलन को हर हालत में कमजोर किया जाए।

– उसके बाद आज डीजीपी उपाध्याय ने सभी आईजी-एसपी से कहा है कि सरकार की मंशा है कि हर हाल में पुलिसवालों के परिजन का धरना-आंदोलन खत्म कराएं। यह अनुशासनहीनता की श्रेणी में आएगा। इसे बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।

– उपाध्याय ने कहा कि चेतावनी के बाद भी अगर कोई पुलिसकर्मी आंदोलन में शामिल होता है तो उसे बर्खास्त कर दिया जाए। इसके लिए ऐसे पुलिस कर्मियों को चिन्हित करें जिनके परिजन (खासकर पत्नियां) हड़ताल का नेतृत्व कर रहे हैं।

– पहले उन्हें सर्विस रुल्स की धारा 311 के तहत नोटिस थमाई जाएगी। इसके तुरंत बाद सभी जिलों में लोकल गुप्तचरों और क्राइम ब्रांच के अमले को सक्रिय कर दिया गया है। रिटायर क्रमियों को गिरफ्तारियां शुरु कर दी गई हैं वहीं जो ऐसे पुलिस कर्मियों की सूची बनाएंगे जिनके परिजन हड़ताल पर हैं।

जोगी कांग्रेस का हस्ताक्षर अभियान
– पुलिस परिवार के सदस्यों की मांगों के समर्थन में युवा जनता कांग्रेस बुधवार को प्रदेश के सभी जिला मुख्यालयों और ब्लॉक मुख्यालयों में हस्ताक्षर अभियान चलाएगी। युवा जनता कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष विनोद तिवारी ने कहा कि कार्यकर्ता लोगों से इस आंदोलन में शामिल होकर आंदोलन को सफल बनाने की अपील भी करेंगे।

विरोध में कांग्रेसियों ने बांधी काली पट्‌टी

– शहर कांग्रेस विकास उपाध्याय के नेतृत्व में मंगलवार को कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने मुंह पर काली पट्टी बांधकर विरोध किया। गृहमंत्री निवास घेरने के लिए जैसे ही कांग्रेस भवन से कार्यकर्ता निकले, पुलिस ने सभी को नगर निगम के पास बेरिकेड्स लगाकर रोक दिया।

– कांग्रेसियों ने वहीं पर जिला प्रशासन के अधिकारियों को गृहमंत्री के नाम से ज्ञापन सौंपा। पुलिस जवानों की मांगों का समर्थन करते हुए उपाध्याय ने कहा कि रमन सरकार पुलिसकर्मियों को कानून का भय दिखाकर डराने की कोशिश न करे। पुलिसकर्मी मजबूर नहीं हैं। कांग्रेस पार्टी उनके साथ खड़ी है।

पैकरा ने कहा- दिए जा रहे बेहतर वेतन और भत्ते; एक महीने का विशेष अवकाश, आहार और मेडिकल भत्ता भी

– जिन 25 मांगों को लेकर पुलिस कर्मी हड़ताल पर उतरे हैं उनसे जुड़े कुछ मुद्दों पर गृह मंत्री रामसेवक पैकरा ने सफाई दी है। उनका कहना है कि राज्य सरकार नक्सल मोर्चे पर तैनात पुलिस जवानों के साथ-साथ प्रदेश के अन्य जिलों में पदस्थ पुलिस कर्मियों के लिए भी आवश्यक सुविधाओं में वृद्धि कर रही है और उन्हें हर संभव बेहतर से बेहतर सुविधाएं दी जा रही हैं।

– चुनौतीपूर्ण ड्यूटी को ध्यान में रखकर उन्हें एक महीने का अतिरिक्त वेतन और 15 दिनों के विशेष आकस्मिक अवकाश भी दिया जाता है। दस वर्ष सेवा पर प्रथम उच्चतर वेतनमान और बीस वर्ष की सेवा पर द्वितीय उच्चतर वेतनमान,अतिसंवेदनशील क्षेत्रों के लिए 50 प्रतिशत, संवेदनशील क्षेत्रों के लिए 35 प्रतिशत और सामान्य क्षेत्रों के लिए 15 प्रतिशत कर दिया गया।

– आरक्षक से निरीक्षकों के लिए प्रदेश के नक्सल प्रभावित जिलों में हर महीने 650 रूपए के राशन भत्ते और महीने 100 रूपए पौष्टिक आहार भत्ता भी दिया जा रहा है। तृतीय और चतुर्थ श्रेणी के कर्मचारियों को वाह्य रोगी (आउटडोर पेशेंट) के रूप में कराए गए इलाज के लिए विकल्प के आधार पर हर महीने 200 रूपए की निश्चित राशि भी देने का प्रावधान किया गया है।

– इस सुविधा के अतिरिक्त अस्पतालों के इंडोर पेशेंट के रूप में इलाज करवाने वाले कर्मचारियों के लिए चिकित्सा प्रतिपूर्ति का भी प्रावधान किया गया है।आरक्षक संवर्ग से पुलिस महानिरीक्षक स्तर तक के कर्मचारियों और अधिकारियों को पात्रता के अनुसार वर्दी धुलाई भत्ता भी दिया जा रहा है।

रायपुर एसपी ने 26 सुझावों पर भेजी सिफारिश

– रायपुर एसपी अमरेश मिश्रा ने पुलिस कल्याण के लिए 26 बिंदुओं पर सिफारिश भेजा है। एसपी ने परामर्शदात्री समिति की बैठक लेकर इनमें बड़े मकान के साथ एचआरए,वर्दी भत्ता,पौष्टिक आहार भत्त, सीसीए भत्तों मेें 10 से 15 फीसदी की बढ़ोतरी भी शामिल हैं। आज भी ये भत्ते 30, 60 और 100 रुपए दिए जाते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »