पत्नी से खफा इस अफसर ने कर डाला 6 लोगों का क़त्ल , पढ़ाई में था टॉपर अब फटी दिमाग की नस

हरियाणा के पलवल में एक ही रात में छह लोगों की हत्या करने वाले साइको किलर नरेश का फरीदाबाद स्थित बादशाह खान अस्पताल में सिटी स्कैन हो गया है। साइको किलर को ब्रेन हेमरेज के चलते दिल्ली स्थित सफदरजंग अस्पताल रेफर किया गया है। इलाज करने वाले डॉक्टर ने बताया चोट लगने के कारण नरेश के दिमाग की नस फट गई, जिससे खून का थक्का जम गया। दिल्ली से सटे पलवल में एक के बाद एक लगातार 6 लोगों की हत्याओं को अंजाम देने वाले आरोपी साइको किलर का नाम नरेश धनखड़ है। फरीदाबाद में मछगर के रहने वाले हत्यारोपी रिटायर्ड फौजी नरेश को लेकर अब नए-नए खुलासे हो रहे हैं।बताया जा रहा है कि इतने वीभत्स तरीके से 6 हत्याओं को अंजाम देने वाला नरेश पढ़ाई में अव्वल था, लेकिन इस तरह वह छह हत्याएं करेगा, इस पर परिजनों को भी यकीन नहीं आ रहा है। फौज से रिटायर होने के बाद वह जन स्वास्थ्य विभाग में एसडीओ भी रह चुका है।

फिलहाल साइको किलर नरेश की हालत गंभीर बनी हुई है और उसे एंबुलेंस से दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल लाया गया है। आरोपी मूल रूप से फरीदाबाद का रहने वाला है जो पलवल के ओमेक्स सिटी में रहता था। हत्या के मकसद की अभी जानकारी नहीं मिल पाई है।बता दें कि बीती रात 2 घंटे के अंतराल में पलवल के सिटी थाना एरिया में 100 मीटर के दायरे में 6 लोगों की लोहे की रॉड से मारकर हत्या कर दी गई थी। हत्यारे का सुराग सीसीटीवी फुटेज से मिला, जिसमें वह लोहे की रॉड के साथ दिख रहा है। सभी हत्याएं देर रात 2 बजे से लेकर तड़के 4 के बीच हुईं। जानकारी के मुताबिक आरोपी ने चार लोगों को रास्ते में मारा है, फिर आगरा रोड और मीनार गेट के बीच में एक चौकीदार को मारा। बाद में पलवल अस्पताल में किलर ने महिला की हत्या कर दी। DSP अभिमन्यु लोहान ने बताया कि प्रारंभिक जांच में पता चला है कि आरोपी ने बिना किसी वजह के इस वारदात को अंजाम दिया है। पुलिस पूछताछ के दौरान आरोपी बहकी-बहकी बातें कर रहा है। उसने सबसे पहले एक अस्पताल में महिला की हत्या कर दी। इसके बाद उसके सिर पर खून सवार हो गया।बताया जा रहा है कि अस्पताल से फरार होने के बाद रास्ते में उसे जो भी दिखा, उसे मौत की नींद सुलाता चला गया। सभी हत्याएं 100 मीटर के दायरे में लोहे की रॉड से मंगलवार की अल सुबह 2 से 4 बजे के बीच की गई हैं। इतना ही नहीं, हमले की कड़ी में आरोपी ने पुलिस टीम पर भी जानलेवा हमला कर दिया।

गौरतलब है कि गिरफ्तारी के दौरान आरोपी ने पुलिस पर भी हमला कर दिया था। हत्या की इन वारदातों के बाद पलवल में हाई अलर्ट घोषित कर दिया गया है। सीरियल किलर को आदर्श नगर पलवल से गिरफ्तार किया गया। पुलिस ने आरोपी को घायल अवस्था में पकड़ा। आरोपी गांव मछगर का रहने वाला है।

सेना में लेफ्टिनेंट के रूप में भर्ती 

पलवल में सीरियल हत्याकांड को अंजाम देने वाला शख्स नरेश वर्ष 1999 में सेना में लेफ्टिनेंट के रूप में भर्ती हुआ था, वहां से मेडिकल ग्राउंड पर रिटायर होने के बाद कृषि विभाग में एडीओ के पद पर वर्ष 2006 में भर्ती हुआ और बाद में प्रमोशन के जरिए उसे एसडीओ का रद मिला।

पुरुषों की तरह बात करती थी नरेश की पत्नी

भाई चंद्र प्रकाश के मुताबिक, नरेश की पत्नी भी अक्सर उसे धमकाती रहती थी कि तुझे पागल कर दूंगा। शब्दों पर गौर फरमाएं। बकौल चंद्रप्रकाश के अनुसार, उसकी पत्नी सीमा पुरुषों की तरह भाषा इस्तेमाल करती थी।10 साल पहले नरेश की शादी पलवल निवासी सीमा के साथ हुई थी नरेश का सीमा से 8 साल का एक बेटा भी है। छह साल पहले पत्नी सीमा नरेश को छोड़कर अपने मायके चली गई थी, दोनों के बीच अभी तलाक नहीं हुआ है।हत्यारोपी नरेश के चार भाई और हैं जिनमें सबसे बड़े श्यामसुंदर निजी कंपनी में कार्यरत हैं दूसरे नंबर पर पूर्व सैनिक चंद्रपाल हैं, तीसरे नंबर पर राजकुमार दिल्ली पुलिस में कार्यरत हैं। चौथे नंबर पर सत्यप्रकाश हैं और सबसे छोटा नरेश है।

नरेश का चल रहा है इलाज 

नरेश का दिमागी रुप से संतुलन बिगड़ा हुआ है और उसका इलाज मुरादनगर में त्यागी नाम के डॉक्टर के पास चल रहा है। नरेश के भाई चंद्रपाल के अनुसार उसे पुलिस से सख्त नफरत थी और पत्नी के छोड़कर चले जाने से वह कुंठित हो गया था शायद इन्हीं परिस्थितियों में उसने इतना बड़ा कदम उठाया होगा। चंद्रप्रकाश के अनुसार उसकी पत्नी भी अक्सर उसे धमकाती रहती थी। नरेश ने हरियाणा एग्रीकल्चर यूनिवर्सिटी हिसार से एमएससी की परीक्षा पास की थी और वह टॉपर था।

मृतकों की शिनाख्त 

– शुरुआत में मृतकों में दो की शिनाख्त हुई थी। मृतक महिला गांव बुराका निवासी अंजुम व यूपी के फिरोजाबाद निवासी शिवनाथ के रूप में हुई।

– तीसरे मृतक की शिनाख्त यूपी के अलीगढ़ निवासी सीताराम के रूप में हुई। सीताराम सुरेश आयरन स्टोर पर बतौर चौकीदार तैनात था।

– चौथे मृतक की पहचान हसनपुर थाना क्षेत्र के गांव करेटा निवासी खेमचंद के रूप में हुई। मृतक खेमचंद गोपाल जी दूध डेयरी में कार्यरत थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »