गोल्डन टैंपल:पॉल्यूशन के खतरे से बाहर,भटि्ठयों की जगह एलपीजी -वाहनों को दूर रखने से सुधार

शिवराज द्रुपद | अमृतसर// गोल्डनटैंपल (स्वर्ण मंदिर) को प्रभावित करने वाली जहरीली और नुकसानदेह गैसों की मात्रा इसके आसपास के एन्वायर्नमेंट में खतरे के निशान से नीचे पाई गई हैं। नतीजतन यह पावन स्थल अब पॉल्यूशन मुक्त होने लगा है। यह खुलासा यहां गलियारे में स्थापित प्रदूषण मापक यंत्र ‘कंटीन्युअस एंबियंट एयर मॉनिटरिंग स्टेशन’ की रिपोर्ट में हुआ है। पॉल्यूशन कंट्रोल बोर्ड तथा यंत्र लगाने वाली कंपनी के इंजीनियरों का मानना है कि इसके लिए विगत में बोर्ड के सुझाव पर जिला प्रशासन तथा शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी की तरफ से उठाए गए कदम के चलते यह संभव हो सका है।

धुएं के कारण सोना की चमक प्रभावित

लंबे समय से चर्चा रही है कि आसपास की मार्केट में सोने के कारोबार, होटल इंडस्ट्री, एसजीपीसी के अपने लंगर वाहनों के कारण इनसे निकलने वाले धुएं के कारण सोना की चमक प्रभावित हो रही है। कयास लगाया जाता रहा है कि धुएं में जरूरत से ज्यादा गैसों के अलावा धूल के कण यहां के एन्वायर्नमेंट में हैं और इसका प्रभाव इसकी खूबसूरती पर पड़ रहा है। इसके बाद केंद्रीय प्रदूषण कंट्रोल बोर्ड, पंजाब राज प्रदूषण कंट्रोल बोर्ड तथा एसजीपीसी की पहल पर गलियारा में फरवरी 2016 में प्रदूषण मापक यंत्र ‘कंटीन्युअस एंबियंट एयर मॉनिटरिंग स्टेशन’ (सीएएक्यूएमएस) स्थापित किया गया।
रिपोर्टमें हुआ खुलासा : करीब4.5 करोड़ की लागत से यंत्र लगाने वाली कंपनी इंवायरनमेंट एसए इंडिया के इंजीनियर मनीष कुमार धीमान ने बताया, एन्वायर्नमेंट में जब उपरोक्त गैसों की मात्रा 100 माइक्रो ग्राम प्रति मीटरी क्यू से अधिक होती है तब खतरा रहता है। लेकिन यंत्र की ताजा रिपोर्ट में यह नीचे है। उनका कहना है कि यह यंत्र हवा में पल-पल रहे बदलाव को भी रिकार्ड करता है।

एन्वायर्नमेंट में सुधार आया

बोर्ड के डिप्टी डायरेक्टर तथा एन्वायर्नमेंट साइंटिस्ट डॉ. चरणजीत सिंह नाभा ने बताया, यह सब बोर्ड के सुझावों पर एसजीपीसी और जिला प्रशासन की तरफ से उठाए गए कदम का नतीजा है। उन्होंने बताया कि मंदिर कैंपस की ग्रीनरी, आसपास के बाजारों से कोयले लकड़ी की भट्ठियों की जगह एलपीजी गैस का इस्तेमाल और वाहनों को मंदिर परिसर से दूर रखे जाने तथा साफ-सफाई के नतीजतन एन्वायर्नमेंट में सुधार आया। फिलहाल जल्द ही यह यंत्र बोर्ड के हवाले होगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »