आईएएस अधिकारी अंजू शर्मा की पुस्तक : ” ई ऑफ दी स्टॉर्म ” ” डिस्कवर योर ट्रू सेल्फ की राजस्थान में लॉन्चिंग

anjusharma book 1गुजरात काडर की वरिष्ठ आईएएस अधिकारी और गुजरात राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (जीएसडीएमए) की सीईओ अंजू शर्मा  पुस्तक ” डिस्कवर योर ट्रू सेल्फ ” की राजस्थान में लॉन्चिंग हुई।इस अवसर पर अंजू शर्मा ने पुस्तक के बारे में अपने विचार भी साझा किए। फेडरेशन ऑफ राजस्थान टे्रड एण्ड इण्डस्ट्री एवं पोद्दार इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट एल्युमिनाई एसोसिएशन की ओर से इन्दिरा गांधी पंचायतीराज संस्थान में आयोजित इस कार्यक्रम के मुख्य अतिथि उच्च शिक्षा मंत्री श्री कालीचरण सराफ और सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्री श्री अरूण चतुर्वेदी थेे।

आध्यात्म, मानसिक मजबूती और स्वयं के प्रबंधन सरीखी गंभीरताओं की ओर ले जाती अंजू की यह पुस्तक कई मायनों में अहम है। अंजू की यह पुस्तक इससे पहले इसी साल फरवरी में गुजरात में भी रिलीज की जा चुकी है।
मूलत: उत्तर प्रदेश से ताल्लुक रखने वाली अंजू ने आर.ए. पोद्दार इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट से वित्त में एमबीए करने के अलावा अमेरिका से स्नात्कोत्तर डिग्री भी ली है। प्रशासनिक सेवाओं में 1991 में चयनित होने के बाद गुजरात काडर में कई महत्त्वपूर्ण पदों पर सेवाओं का अनुभव ले चुकी अंजू फिलहाल प्रमुख  सचिव स्तर की अधिकारी हैं और काडर में बेहद सक्रिय अधिकारियों में शुमार हैं। अपने कामकाज को लेकर खास पहचान रखती हैं और शुरू से ही अंजू की लेखन और अध्ययन में गहरी रुचि रही है।

इस अवसर पर श्रीमती अंजू शर्मा ने बताया कि मैंने जो भी अपने अनुभवों से सीखा है उसे इस पुस्तक में संजोने का प्रयास किया है। यह लेखन अपने आपको जानने की यात्रा है। इन्सान को लगातार खुद को खोजते रहना चाहिए। उन्होंने कहा कि यह पुस्तक जिन्दगी को एक अलग नजरिए से देखने की उम्मीद जगा सकती है।कार्यक्रम में सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्री श्री अरूण चतुर्वेदी ने कहा कि जीवन में हर व्यक्ति को सकारात्मक रहना चाहिए। हम सबको यह सोचना चाहिए कि समाज के लिए हम क्या योगदान कर सकते हैं। हमें मानव सेवा के लिए तत्पर रहना चाहिए।कार्यक्रम में उच्च शिक्षा मंत्री श्री कालीचरण सराफ ने बताया कि श्रीमती अंजू शर्मा द्वारा लिखित पुस्तक में कई उपयोगी चीजें हैं। यह पुस्तक हर व्यक्ति के जीवन को छूती है और जीवन की हर दुविधा का हल बताती है। उन्होंने कहा कि इन्सान का लक्ष्य ऎसा होना चाहिए जो सबका भला करे। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Translate »